बिहार के कई जिले में 72 घंटे की बारिश से हाल बेहाल

पटना.बिहार में पिछले कुछ दिनों से भारी बारिश हो रही है. अब लोगों को बारिश की वजह से मुसिबतों का सामना करना पड़ रहा है. अररिया और सुपौल जिले में बारिश और बाढ़ से हालात बेहद खराब हैं. बिहार में बाढ़ की स्थिति काफी गंभीर है. अररिया, पूर्णिया और किशनगंज के साथ-साथ कटिहार का कुछ हिस्सा बुरी तरह से बाढ़ की चपेट में है. इसके अलावा सीमांचल, पूर्वी चंपारण और पश्चिमी चम्पारण के कुछ इलाके भी बाढ़ में डूबे हुए हैं. सीएम नीतीश कुमार ने बाढ़ की स्थिति को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री राजनाथ सिंह और रक्षामंत्री अरुण जेटली से फोन पर बातचीत कर सेना और वायुसेना की मदद मांगी है. वहीं असम के 19 जिले और 1752 गांव बाढ़ की चपेट में हैं. और पश्तिम बंगाल के कई जिलों में भी बाढ़ अपना विकराल रूप दिखा रही है.
बिहार पर भारी पड़ने वाले हैं अगले 4 दिन बिहार में स्थिति आगे और विकराल होने वाली है, क्योंकि बिहार पर अगले चार दिन भारी पड़ने वाले हैं. अररिया जिले में कल हुई जोरदार बारिश से बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए हैं. शहर में जगह-जगह बंद पड़ी गाड़ियों को धक्का देकर आगे बढ़ा रहे हैं. उत्तरी बिहार और नेपाल के तराई इलाकों में पिछले तीन दिनों से लगातार हो रही बरिश की वजह से अप्रत्याशित जल भराव हो गया है, जिससे बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हुई है. बाढ़ से बेहाल किशनगंज, अररिया, फोरबिसगंज, जोगबनी और पश्चिम चम्पारण के नरकटियागंज में पानी घरों में घुस गया है. जनजीवन पूरी तरह से अस्त व्यस्त है. मकान और गाड़ियां सभी पानी में डूबी हुई हैं. कई लोग अपने घरों में ही फंसे हुए हैं. एसडीआरएफ की टीमें लोगों को रेस्क्यू करने में जुटी हुई हैं.
72 घंटे में अप्रत्याशित बारिश
बिहार के मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने बताया कि पिछले 72 घंटे में अप्रत्याशित बारिश हुई है. अगल सभी आंकड़ों को जोड़ दिया जाए तो लगभग दो फीट तक पानी बारिश की वजह से ही है. मुख्य सचिव ने कहा कि सीमांचल के साथ साथ उत्तरी बिहार के कई इलाकों में बाढ़ का खतरा बना हुआ है. नेपाल में भारी बारिश की वजह से ये स्थिति आई है. गंडक नदी के वाल्मीकी नगर बराज से रिकॉर्ड पानी छोड़ा गया है.
सुपौल में कोसी का कहर
बिहार का शोक कही जाने वाली कोसी नदी ने सुपौल में अपना कहर दिखाना शुरू कर दिया है. सुपौल जिले के कई गांव में कोसी नदी की चपेट में आ गए हैं. सुपौल के घुरन गांव में लोग जान जोखिम में डालकर नदी को पार करने को मजबूर हैं. दरअसल नेपाल में भारी बारिश की वजह से पानी छोड़ा गया है, जिसकी वजह से कोसी नदी में बाढ़ आ गई है. ये गांव भी बाढ़ की चपेट में है. गावं के बच्चे जुगाड़ से बनी नाव से बाढ़ को पार करने की कोशिश में हैं. मौसम विभाग के मुताबिक बिहार में अगले 4 दिन भारी बारिश की आशंका है.






Related News

  • आजादी के 70 साल…बाकी हैं कई सवाल…!
  • आंदोलन के नाम पर जो किसान दूध, सब्जियां सड़क पर फेंकते हैं, उन्हें अन्नदाता नहीं कहा जा सकता :सुमित्रा महाजन
  • बिहार के कई जिले में 72 घंटे की बारिश से हाल बेहाल
  • वहां जाएं, जहां सुरक्षित लगता है : इंद्रेश कुमार
  • 15 दिन में निर्णय होगा कि सरकार के साथ रहना है या नहीं : राजू शेट्टी
  • बिहार में जनादेश के साथ धोखा, जनता सिखायेगी सबक:शरद
  • वरुण गांधी बोले- मुझे फूलों से स्वागत पसंद नहीं, फूल तो मृत होते हैं
  • मिहान में नहीं चालू हुईं 30 फीसदी कंपनियां