Monday, August 14th, 2017

 

देश सेवा के लिए युवाओं को प्रेरित कर रहा सरकारी नौकरी छोड़ एक ‘सैनिक’

कामठी जो कभी अंग्रेजों की छावनी थी और उसका देश की आजादी के साथ एक अनोखा रिश्ता है। राकेश फेंडर. नागपुर/कामठी. कामठी स्थित पोरवाल कालेज का मैदान। धूप हो या बारिश सेना में भर्ती का प्रशिक्षण यहां निरंतर चलता रहता है। आज भी लगभग 42 युवक-युवतियां प्रशिक्षणार्थी के रूप में पसीना बहाते देखे जा सकते हैं। खास उद्देश्य के साथ इस ‘प्रशिक्षण’ को शुरू किया है कामठी के ही एक सैनिक ने। फिलहाल वे स्वैच्छिक सेवानिवृति ले चुके हैं। कामठी के मच्छीपुल शास्त्री चौक निवासी चंद्रशेखर उर्फ बब्बू अरगुलेवार (46)Read More


फिर इस्लाम डाल पर

संजय तिवारी (विस्फोट डॉट कॉम) 14 अगस्त 1947। जिन्ना कराची में पाकिस्तान की पहली कान्सचुएट एसेम्बली को संबोधित करने के लिए खड़े हुए। उन्होंने कहा, ”आप आजाद हैं। आप अपने मंदिर जाने के लिए आजाद हैं। आप अपनी मस्जिद जाने के लिए आजाद हैं। या जहां जाना चाहे वहां जाने के लिए आजाद हैं। राज्य का इससे कोई लेना देना नहीं है कि आपका धर्म क्या है या फिर आपकी जाति या नस्ल कौन सी है।” जिन्ना ने जोर देकर कहा, ”हम इस सिद्धांत के साथ शुरुआत कर रहे हैंRead More


आजादी के 70 साल…बाकी हैं कई सवाल…!

सुदर्शन चक्रधर. भारत के 70 वें स्वाधीनता दिवस की पूर्व संध्या पर पहली बार देश को संबोधित करते हुए भारत के नए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देशवासियों को बधाई देते हुए गरीबी, ईमानदारी और भ्रष्टाचार जैसे कई सवालों पर अपनी बात रखी और देशवासियों को शुभकामनाएं दीं. महामहिम के अनुसार न्यू इंडिया में गरीबी के लिए कोई जगह नहीं है. इसका मतलब यही है कि भारत अब गरीब देश नहीं रहेगा या नहीं कहलाएगा, किंतु सवाल तब खड़े होते हैं, जब उत्तरप्रदेश के गोरखपुर में गरीब और मासूम बच्चों कोRead More


आजादी के बाद चलेगी इस गांव में पहली बस, खुशी का माहौल

हिमायतनगर/नांदेड़(महाराष्ट्र). नांदेड़ जिले की तहसील के कार्लापी गांव में स्वतंत्रता के बाद से महाराष्ट्र राज्य परिवहन महामंडल की बस आई ही नहीं, जिससे यहां के विद्यार्थियाें को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सामाजिक कार्यकर्ता परमेश्वर लुम्दे ने इस समस्या को हल कर दिया है। उन्होंने इसके लिए संबंधित कार्यालय के चक्कर लगाए। उनके इस सफल प्रयास से कार्ला पी. गांव में स्वतंत्रता के बाद पहली बस आएगी। इससे ग्रामवासियों में उत्साह का माहौल है। नांदेड़-किनवट राज्य से 2 किमी. की दूरी पर होने के कारण ग्राम कार्ला पी.Read More


आंदोलन के नाम पर जो किसान दूध, सब्जियां सड़क पर फेंकते हैं, उन्हें अन्नदाता नहीं कहा जा सकता :सुमित्रा महाजन

अमरावती. लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कहा है कि फसलों को कम दाम मिलने या फिर महंगाई बढ़ने के लिए सरकार को जिम्मेदार ठहराना उचित नहीं है, क्योंकि सरकार का काम केवल नीतियां बनाना और उन पर अमल करना है। महाजन रविवार को राजमाता अहिल्याबाई फाउंडेशन के तत्वावधान में शहर के संस्कृति भवन में अयोजित अहिल्यादेवी स्त्रीशक्ति पुरस्कार समारोह को संबोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि आंदोलन के नाम पर जो किसान दूध, सब्जियां सड़क पर फेंकते हैं, उन्हें अन्नदाता नहीं कहा जा सकता। इस अवसर पर सांसद डॉ.Read More